shayari gulzar

Top Gulzar Hindi Shayari Collection (2020) | गुलजार साहब की मशहूर शायरी

नमस्कार दोस्तों, आज हम बात करने वाले है Gulzar Shayari के बारे में. गुलजार साहब जी का नाम सुनते ही इनके गाने, शायरी, गजल याद आते है. दोस्तों गुलजार साहब जी का जन्म पाकिस्तान के दीना गांव में १८ अगस्त १९३६ में हुआ. भारत के बटवारे के समय इनका परिवार पंजाब, भारत में आया. फिर उन्होंने गराज में मैकेनिक के तौर पर काम किया उसी के साथ वह शायरी भी लिखा करते थे. उनका अच्छा पड़ाव तब आया जब स्लम डॉग मिलियनेयर में लिखे गए गीत जय हो को ऑस्कर पुरस्कार मिला.

उसी के साथ साथ २००४ में पद्मा भूषण पुरस्कार मिला. इसी के साथ उन्हें ग्रैमी पुरस्कार भी मिल चूका है. उनकी लिखी हुई हर किताब, शायरी, गीते, गजल लोगोंके दिल में हमेशा रहेंगे. दोस्तों में इनका बहुत बड़ा फैन हु. इनके शायरी को लोगों तक पोहोचाने के लिए में काफी उत्साहित हु. चलिए तो शुरू करते है.

Gulzar Shayari

gulzar shayari in hindi

ज़िन्दगी किस्मत से चलती है साहब,
दिमाग से चलती तो बीरबल बादशाह होता.

उम्र कहती है, अब संजीदा हुआ जाये…
दिल कहता है, कुछ नादानियाँ और सही..!

gulzar shayari on life

बहुत अजीब है ये बंदिशे मोहब्बत की,
ना उसने कैद में रखा ना हम फरार हुए…

लोग कहते है समझो तो
खामोशिया भी बोलती है,
में आरसे से खामोश हु वो
बरसों से बेखबर है.

कभी कभी किसी के लिए
हम इतना भी जरुरी भी नहीं होते
जितना हम सोच लेते है.

Gulzar Shayari In Hindi

कहने को तो बहुत कुछ बाकि है,
मगर तेरे लिए मेरी ख़ामोशी ही काफी है..!

तन जला कर रोटियां पकती है माँ,
नादान बच्चे अचार पर रूठ जाते है.

मिलता तो बहुत कुछ है इस ज़िन्दगी में..
बसहम गिनती उसी की करते है जो हासिल ना हो सका..

थोड़ा सा रफू करके देखिये ना,
फिर से नयी सी लगेगी,
ज़िंदगी ही तो है..

> यह भी जरूर पढ़िए:- “Unlimited” Romantic Hindi Shayari

मनों का बोझा लेकर चल रहे हो
बहुत भरी है बोझा ले के चलना उम्मीदें कम करो, लम्बा सफर है..!

अपनी तन्हाई का औरोंसे न शिकवा करना
तुम अकेले ही नहीं हो सभी अकेले है.

पनाह मिल जाए रूह को जिसका हाथ छूकर,
उसी हथेली पर घर बना लो.

मेरी लिखी बात को हर कोई समझ नहीं पता क्यूंकि…?
में अहसास लिखता हु और लोग अल्फाज पढ़ते है.

में मना इस दौरान कुछ साल बिट गए है,
फिर भी आँखों में चेहरा तुम्हारा समाये हुए है,
किताबों पर धूल जमने से कहानी कहाँ बदलती है.

तारीफ अपने आप की करना फिजूल है,
खुशबु खुद बता देती है,
कौनसा फूल है.

सोचता हु दोस्तों पर मुक़दमा कर दू,
इसी बहाने तारीखों पर मुकालात तो होगी.

अपने साए से चौंक जाते है,
उम्र गुजरी है इस कदर तनहा.

कभी ज़िन्दगी एक पल में गुजर जाती है,
कभी ज़िन्दगी का एक पल नहीं गुजरता.

सहमी हुयी सी है झोपडी बारिश के,
खौफ से और महलो की आरजू है की बरसात तेज हो..!

थोड़ा सुकून भी तो ढूंढिए जनाब,
यह जरूरते तो कभी खत्म ही नहीं होती.

Gulzar Shayari On Life

इतना क्यों सिखाये जा रही हो ज़िन्दगी…
हमें कौनसी सदियाँ गुजारनी है यहाँ…!

बहुत मुश्किल से करता हु,
तेरी यादों का कारोबार,
मुनाफा कम है,
पर गुजारा हो ही जाता है…

कभी तो चौंक के देखे कोई हमारी तरफ,
किसी की आँख में हम को भी इंतजार दिखे.

गुलज़ार दिल से

मैंने मौत को देखा तो नहीं,
पर शायद वो बहुत खूबसूरत होगी,
कम्बक्त जो भी उससे मिलता है,
वह जीना ही छोड़ देता है.

हज़ारों..
उलझने रहो मैं और,
कोशिशे बेहिसाब.
इसी का नाम है ज़िन्दगी,
चलते रहिये जनाब.

वक़्त रहता नहीं कही टिक कर,
आदत इस की भी आदमी सी है.

हम अच्छे तो पहले से ही थे मगर,
होशियार ज़माने वालों ने बना दिया.!

लगता है ज़िन्दगी आज कुछ खफा है,
चलिए छोड़िये कौन सी पहली दफा है…!

तेरे बिना ज़िन्दगी से,
कोई शिकवा तोह नहीं,
तेरे बिना ज़िन्दगी भी,
लेकिन, ज़िन्दगी तोह नहीं.

जो भी मिला सबक दे गया,
ज़िन्दगी में हर शख्स उस्ताद निकला…!

> यह भी जरूर पढ़िए:- Friendship Shayari In Hindi | Friendship Day Sms

चखकर देखि है कभी…
तन्हाई तुमने,
मैंने देखी है,
बड़ी ईमानदार लगती है..!

मै कभी सिगरेट पिता नहीं मगर हर आने वाले से पूछ लेता हु की माचिस है?
बहुत कुछ है जिसे में फूँक देना चाहता हु.

कल का हर वाक़िआ तुम्हारा था आज की दस्ता हमारी है.

सौंदर्य देखने वाले की आँखों में होता है.

Gulzar Shayari On Love

कभी तो चौंक के देखे कोई हमारी तरफ,
किसी की आँख में हम को भी इंतजार दिखे.!

बचपन में भरी दोपहरी में नाप आते थे पूरा मोहल्ला,
जब से डिग्रियां समझ में आई, पाँव जलने लगे.

तुझको बेहतर बनाने की कोशिश में,
तुझे ही वक़्त नहीं दे पा रहे हम,
माफ़ करना ए ज़िन्दगी,
तुझे ही नहीं जी पा रहे हम…!

आँखों से दूर दिल के करीब था,
मैं उसका और वो मेरा नसीब था,
न कभी मिला न कभी जुदा हुआ,
रिश्ता हम दोनों का कितना अजीब था.!

सब कुछ चाहने से हासिल हो जाए ये मुमकिन नहीं,
जनाब ये ज़िन्दगी है पिता का घर नहीं…!

हिचकियों में वफ़ा ढूंढ रहा था,
कम्बक्त गम हो गई दो घूँट पानी से..!

न जाने ज़िन्दगी का, ये कैसा दौर है, इंसान
खामोश है और ऑनलाइन कितना शोर है…

वो चीज जिसे दिल कहते है,
हम भूल गए है, रखे के कही..!

फर्क था हम दोनों की मोहब्बत में,
मुझे उससे ही थी उसे मुझसे भी थी.

न जाने ज़िन्दगी का, ये कैसा दौर है, इंसान
खामोश है और ऑनलाइन कितना शोर है…

रहने दे उधार,
एक मुलाकात यूँ ही,
सुना है उधार वालों को लोग भुलाया नहीं करते…!

शोर की तो उम्र होती है,
ख़ामोशी तो सदाबहार होती है…!

> यह भी जरूर पढ़िए:- {अनलिमिटेड} Romantic Shayari In Hindi

जिस की आँखों में कटी थी सदियाँ,
उस ने सदियों की जुदाई दी है…!

बैठे चाय की प्याली लेकर,
पुराने किस्से गरम करने,
चाय ठंडी होती गयी,
और आँखे नम..!

Shayari By Gulzar

दो जहाँ के बिच छोटा सही फर्क है,
सांस चल रही है तो यहाँ और रुक गई तो वहां…!

जिसके बदले तुम मिल जाओ,
ऐसा कोई गुनाह करना चाहता हु…!

यूँ तो हम अपने आप
में गम थे,
सच तो ये है की वहां
भी तुम थे…!

में दियां हु,
मेरी दुश्मनी तो सिर्फ अंधेरे से है,
हवा तो बेवजह ही मेरे खिलाफ है.

साइकिल भी पहचानती थी,
मोहब्बत की राहें,
चैन भी उतरती थी तो उसी के
मोहल्ले में…!

खाली कागज पे क्या
तलाश करते हो?
एक खामोश सा जवाब तो है.

वो एहसास वो मेरा पहला प्यार हो तुम,
मिर्जा ग़ालिब मेरे गुलजार हो तुम…!

चाँद होता न आसमां पे अगर,
हम किसे आप सा हंसी कहते.

ऐसे बिखरे है दिन रात जैसे
मोतियों वाला हार टूट गया
तुमने मुझे पिरो के रखा था…!

आदमी बुलबुला है पानी का,
और पानी की बहती सतह पर,
टूटता भी है, डूबता भी है,
फिर उभरता है,
फिर से बहता है..!

बहुत अंदर तक जला देती है
वो शिकायते जो बयां नहीं देती…!

> यह भी जरूर पढ़िए:- {बेस्ट} Motivational Status In Hindi – 2020

आओ सारे पहन ले आईने,
सारे देखेंगे अपना ही चेहरा,
सबको सारे हंसी लगेंगे यहाँ..

मालूम है याद करते हो तुम,
मालूम है मुझ को भूले नहीं,
हर हिचकी खबर दे जाती है.

Two Line Gulzar Shayari

मिलता तो बहुत कुछ है
इस ज़िन्दगी में,
बस हम गिनती,
उसी की करते है जो,
हसीलन ना हो सका.

शाम से आँख में नमी सी है,
आज फिर आप कमी सी है….!

जब इत्मीनान से, खंगाला खुद को,
थोड़ी मै मिली और बहुत सारे तुम…

जरुरी नहीं हर रिश्ते को,
मोहब्बत का नाम दिया जाए…!

खूबसूरती न सूरत में हैं न लिबास में,
निगाहें जिसे चाहे उसे हसीन कर दे..!

बड़ा मीठा नशा था उसकी याद का,
वक़्त गुजरता गया और हम आती होते गए…!

आज बचपन का टुटा हुआ,
खिलौना मिला…!
उसने मुझे तब भी रुलाया था,
उसने मुझे आज भी रुलाया है…!!

अब जवाबों का, इंतजार नहीं करता,
मैंने सवालों को, बहलाना सिख लिया है…!

कुछ यूँ मिली नजर उनसे की…
बाकी सब नजरंदाज हो गए…!

मिलने जो पहुंचा दुश्मनों के घर,
अपने ही दोस्तों से मुलाकात हो गयी…!

रंग बदलती इस दुनिया में,
मुझे मेरा,
बेरंग होना पसंद आया.

किनारा ना मिले तो कोई बात नहीं,
दूसरों को डूबा के मुझे तैरना नहीं आता…!

मैंने अपने ज़िन्दगी में सारे महंगे सबक,
सस्ते लोगों से ही सीखे है.

> यह भी जरूर पढ़िए:- Unlimited Birthday Wishes In Hindi, Birthday Wish

इश्क़ न हुआ कोहरा हो जैसे,
तुम्हारे सिवा कुछ दिखता ही नहीं…!

इतना क्यों सिखाये जा रही हो ज़िन्दगी..,
हमें कौन सी सदियाँ गुजारनी है यहाँ…!

याददाश्त का कमजोर होना,
कोई बुरी बात नहीं जनाब,
बहुत बेचैन रहते है वो लोग,
जिन्हे हर बात याद रहती है..!

*गुलज़ार साहब जी का मशहूर किताब खरीदने के लिए निचे लिंक पर क्लिक करे.*

gulzar romantic shayari

पोस्ट पढ़ने के लिए दिल से शुक्रिया

तो दोस्तों आशा करता हु, की (Gulzar Shayari) आपको पसंद आया होगा. तो अपने “FRIENDS” के साथ शेयर जरूर करे और हमे निचे कमेंट करके बता दीजिये अगला टॉपिक आपको कौनसे विषय में चाहिए. वैसे हम उस विषय में पोस्ट लिखे. धन्यवाद

And Join Our FACEBOOK PAGE

And

KnowUrLife | Every Moment Matters

One thought on “Top Gulzar Hindi Shayari Collection (2020) | गुलजार साहब की मशहूर शायरी

Comments are closed.